संचारी रोग एवं दिमागी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण के लिए विभिन्न विभाग मिल कर करेंगे काम

संचारी रोग एवं दिमागी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण के लिए विभिन्न विभाग मिल कर करेंगे काम

प्रयागराज : जनपद में आज से पूरे अक्टूबर माह संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाया जायेगा। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मेजर जी.एस. बाजपेई ने बताया कि अभियान की सभी तैयारियां हो चुकी हैं। कोविड-19 की सभी गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए पूरे अभियान को संचालित किया जायेगा। इसमें चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के साथ ही नगर विकास, पंचायतीराज, पशुपालन, चिकित्सा शिक्षा, बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार(आई.सी.डी.एस.),शिक्षा, दिव्यांगजन संशक्तिकरण, कृषि एवं सिंचाई विभाग मिल कर काम करेंगे ।

बुखार से ग्रस्त रोगियों की सूचना ब्लॉक मुख्यालय को देंगी

जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. कौशल प्रसाद द्विवेदी ने बताया कि 1 से 31 अक्टूबर तक पूरे जनपद में संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाया जायेगा ।इसमें सभी विभागों के माध्यम से समुदाय में जन जागरूकता कार्यक्रम चलाये जायेंगे और 1 से 15 अक्टूबर तक दस्तक अभियान चलाया जायेगा जिसमे आशा कार्यकर्ताओं को प्रचार-प्रसार की पर्याप्त सामग्री भी दी जाएगी जिसकी मदद से वे घर-घर जा कर लोगों को मच्छर जनित रोगों खासकर डेंगू व मलेरिया और उनसे बचाव पर जागरूक करेंगी और बतायेंगी कि मच्छर किन परिस्थितियों में पनप सकते हैं, इसके साथ ही बुखार से ग्रस्त रोगियों की सूचना ब्लॉक मुख्यालय को देंगी।

कीटनाशक छिड़काव व साफ-सफाई पर जागरूक किया जायेगा

ग्रामीण तथा शहरी दोनों क्षेत्रो में नालियों और जमें हुए पानी में एंटी लार्वा का छिड़काव किया जायेगा और फॉगिंग की जाएगी ताकि मच्छरों को पनपने से रोका जा सके। डॉ. कौशल ने बताया की कोरोना के चलते प्रशासन और लोग स्वयं साफ-सफाई पर ध्यान दे रहे हैं इसकी वजह से इस साल जनवरी से लेकर अब तक सिर्फ 1 डेंगू का केस सामने आया है और उसका उचित उपचार भी हो चुका है। उन्होंने बताया की इस कार्य में आशाओं के साथ आंगनवाड़ी कार्यकर्ता भी पूरा सहयोग करेंगी। वी.एच.एन.डी. के माध्यम से संचारी रोग और दिमागी बुखार से रोकथाम हेतु ‘क्या करें क्या न करें ‘ का सघन प्रचार-प्रसार, पशुपालन विभाग द्वारा सूकर पालन और पशु पालन स्थलों पर विशेष रूप से कीटनाशक छिड़काव व साफ-सफाई पर जागरूक किया जायेगा।

अभियान चलाकर बच्चों का टीकाकरण किया जायेगा

आशा कार्यकर्ता घर-घर जा कर जनवरी से सितम्बर माह तक जन्मे बच्चों की जानकारी लेंगी । जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. अमित श्रीवास्तव ने बताया कि कोरोना के चलते बहुत से बच्चे नियमित टीकाकरण से छूट गए थे, 1 से 15 अक्टूबर तक ‘दस्तक अभियान’ के अन्तर्गत आशा कार्यकर्ता घर-घर जा कर लोगों को संचारी रोगों पर जागरूक करने के साथ ही टीकाकरण से छूट गए बच्चों का चिन्हीकरण भी करेंगी जिससे सम्पूर्ण टीकाकरण हो सके और जिन क्षेत्रों में 50 प्रतिशत से अधिक बच्चे टीकाकरण से छूट गए होंगे वहाँ विशेष अभियान चलाकर बच्चों का टीकाकरण किया जायेगा।

Show More

Related Articles