महिला सुरक्षा के लिए यूपी पुलिस ने उठाया बड़ा कदम, पढ़ें यह खबर

112 की पीआरवी में महिला सिपाहियों की मदद से घर छोड़ा जाएगा

 

लखनऊ। बढ़ते अपरध को देखते हुए महिला सुरक्षा के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस ने एक बड़ा कदम उठाया है। हैदराबाद गैंगरेप और यूपी में रेप की घटनाओं के बाद यूपी पुलिस ने अब महिला सुरक्षा को लेकर अहम तैयारी शुरू कर दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार डीजीपी मुख्यालय में प्लान तैयार किया जा रहा है कि देर रात सफर कर रही महिलाओं को पुलिस घर तक छोड़े। कहा जा रहा है कि 112 नंबर पर कॉल करने पर महिलाओं को ये सुविधा मिलेगी। तथा

डीजीपी मुख्यालय पर इस समय प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह की डायल 112 सेवा के एडीजी असीम अरुण के साथ मीटिंग चल रही है। पता चला है कि पीआरवी में एक महिला पुलिसकर्मी की तैनाती भी की जाएगी। महिलाओं व बच्चों के खिलाफ बढ़ते अपराध से उपजे आक्रोश के बीच प्रदेश की योगी सरकार दोषियों को जल्द सजा दिलाने के लिए ठोस पहल की है।

इसी क्रम में सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में प्रदेश कैबिनेट पाक्सो एक्ट व बलात्कार से संबंधित वादों के शीघ्र निस्तारण के लिए 218 नए फास्ट ट्रैक कोर्ट खोले जाने की मंजूरी मिल गई है। यूपी के कानून मंत्री बृजेश पाठक ने बताया कि इन अदालतों में सिर्फ रेप के मामलों की सुनवाई होगी।

जिसमें 144 कोर्ट महिलाओं और 74 कोर्ट बच्चों के मामले की सुनवाई करेगी। अब यह फैसला शायद कुछ लड़कियों के लिए खतरा कम हो सके । और अब यूपी पुलिस देर रात तक सफर कर रही महिलाओं को घर तक छोड़ने जायेगी। जिससे वह सुरक्षित घर पहुंच सकती है। क्योकि दिन व दिन बढ़ रही घटनाओं को ले यह फैसला लिया गया है।

Show More

Related Articles