आईटीआई छात्रों ने किया प्रदर्शन

जिला प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाने लगें

 

वाराणसी. एक तरफ जहां प्रदेश की सरकार शिक्षा को लेकर नए नए नियम लागू कर रही है ताकि शिक्षा में किसी भी तरह के नकल पर अंकुश लगाया जा सके. इसे लेकर सरकार ने विभिन्न परीक्षाओं को ऑनलाइन परीक्षा देने का निर्देश भी जारी कर दिया है। लेकिन अब यह ऑनलाइन परीक्षा कुछ विद्यालयों और विद्यार्थियों के लिए परेशानी का सबब बन चुका है। इसी कड़ी में आज विभिन्न क्षेत्रों के आईटीआई कॉलेज के छात्र-छात्राएं ऑनलाइन परीक्षा को बंद करने के साथ ही पिछले वर्ष के रिजल्ट को जल्द घोषित करने की मांग के साथ कचहरी स्थित जिला मुख्यालय पहुंचे.और जिला प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाने लगें।
जिनमें जिला मुख्यालय पहुंचे सभी आई0टी0आई0 छात्रों ने आक्रोश प्रकट करते हुए कहा कि हम सभी छात्र अपनी विभिन्न प्रकार की समस्याओं से घिरे हुये है जिसके समाधान के लिए जब हम अपने संस्थानों में जाते है तो वहाँ से हमें उसके समाधान हेतु सिर्फ आश्वासन ही मिलता है किन्तु आज तक जटिल समस्या अभी तक यथावत है.
पिछले चार वर्षों से परीक्षा परिणाम जो घोषित हो रहे है उसमें गम्भीर त्रुटियाँ है जिसमें प्रदेश के हजारों छात्रों का कई पेपर में 0 (जीरो) अंक दृष्टव्य हो रहे है। इस वर्ष भी घोषित रिजल्ट में हजारों छात्रों का जीरो अंक आया है।अभी तक द्वितीय वर्ष के छात्रों का रिजल्ट घोषित नहीं हो पाया है जिससे हम सभी द्वितीय वर्ष के छात्र अपने छात्रवृत्ति फार्म अग्रसारित नहीं कर पाये है।।हमारे कई साथियों के मार्कशीट में पिता के नाम, माता के नाम, जन्म तिथि इत्यादि में आंशिक त्रुटियां है जो पिछले छ: वर्षों से लम्बित है।परंतु विभाग आज तक उसे ठीक नहीं कर पाया।यदि हमारी मांग पुर्ण नही होती है तो हम सभी छात्र-छात्राएँ आनदोलन के लिए बाध्य होंगे जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी सरकार की होगी।

Show More

Related Articles