प्रधानमंत्री मोदी ने देश का राजनीतिक एजेंडा बदला है :  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहले देश का राजनीतिक एजेंडा जाति, मत, मजहब, क्षेत्र और भाषा पर आधारित होता था।

खालसा न्यूज डेस्क / बाराबंकी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहले देश का राजनीतिक एजेंडा जाति, मत, मजहब, क्षेत्र और भाषा पर आधारित होता था। विगत पांच वर्षों में प्रधानमंत्री मोदी ने देश के राजनीतिक एजेंड को बदलकर रख दिया है। जिसका परिणाम है कि आज देश के राजनीतिक एजेंडे में गांव, गरीब, किसान, नौजवान और महिलाएं शामिल हैं।

मुख्यमंत्री ने सोमवार को बाराबंकी के जैदपुर विधानसभा क्षेत्र में आयोजित एक कार्यक्रम में 71 करोड़ 36 लाख की 33 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि हम सबके जीवन में खुशहाली केवल विकास से ही आ पाएगी। हमारी सरकार की प्रतिबद्धता है कि विकास समयबद्ध ढंग से गुणवत्ता के अनुरूप और बिना भ्रष्टाचार के हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास अधूरा नहीं, समग्र होना चाहिए। अगर किसी के शरीर का कोई अंग कार्य करना बंद कर देता है, तो वह दिव्यांग कहलाता है। यही स्थिति इस राष्ट्र रूपी शरीर की है। कहीं गरीबी, कमजोरी और बदहाली होगी, तो देश खुशहाल नहीं हो सकता है। हमें इसे दूर करना होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि धारा 370 की समाप्ति का फैसला कश्मीर को विकास की मुख्य धारा से जोड़ने वाला है। इसका सपना बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर, लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल और डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने देखा था। जिसके साकार होने में 70 वर्ष लग गए। इसे समाप्त करने के लिए जो जज्बा चाहिए था, वह प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह में है। इसके लिए हमें उनका अभिनंदन करना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्षों से नारी सशक्तिकरण की बात होती थी, लेकिन वास्तविक धरातल पर वह लागू नहीं हो पाता था। आजादी के बाद कभी भी किसी ने यह नहीं सोचा था कि खुले में शौच से मुक्त करके स्वस्थ भारत के निर्माण में एक कदम आगे बढ़ाएं और उसके माध्यम से नारी गरिमा के सम्मान की रक्षा करें। उन्होंने कहा कि सदियों से चली आ रही तीन तलाक जैसी कुप्रथा को समाप्त करने का कार्य प्रधानमंत्री मोदी ने किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्लास्टिक आज रक्तबीज बन चुका है। यह पर्यावरण, स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है। प्रदूषण को बढ़ावा देने वाला एवं जल संरक्षण के लिए बाधक है। प्लास्टिक गौवंश को नुकसान पहुंचाने वाली और किसानों की दुश्मन है। इसलिए प्लास्टिक को सदैव के लिए तिलांजलि देने की आवश्यकता है।

Show More

Related Articles