जनपद में अब तक 5000 महिलाओं की पसंद बनी अंतरा

जनपद में अब तक 5000 महिलाओं की पसंद बनी अंतरा

औरैया: ग्राम पंचायत औतों में राम दुलारी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में पोषण माह के तहत मंगलवार को गर्भवती महिलाओं की गोद भराई एवं बच्चों का अन्नप्राशन संस्कार हुआ। विद्यालय के प्रधानाध्यापक सरोज कुमार और ब्लॉक अछल्दा की बाल विकास परियोजना अधिकारी उमा कांति ने नन्ही बालिका प्रतिज्ञा और पीहू को खीर खिलाकर मुंहजुठी कराई और संदेश दिया कि अब बच्चे को मां के दूध के साथ-साथ ऊपरी आहार भी देने की आवश्यकता है। कार्यक्रम की संचालक आँगनवाड़ी कार्यकर्त्ता सुमन चतुर्वेदी ने पोषण वाटिका में ही अन्नप्राशन व गोदभराई करवाकर किचन गार्डन को बढ़ावा दिया।

प्रधानाध्यापक और बाल विकास परियोजना अधिकारी (सीडीपीओ) ने सहजन का पौधा स्कूल प्रांगण में लगाकर पोषण वाटिका को और सुंदर बनाने का संकल्प लिया। बच्चों को पोषाहार और साथ में उनके माता पिता को 1-1 सहजन के पौधे उपहार स्वरूप दिए गए और और माता-पिता से संकल्प करवाया गया कि सहजन का पौधा रोपित कर उसको बड़ा करेंगे और फलदार वृक्ष बनाएंगे।

गोदभराई के दौरान आंगनबाड़ी सेविकाओं द्वारा उन्हें पौष्टिक आहार से भरी टोकरी भेंट की गई और साथ ही उन्हें और उनके परिवार के सदस्यों को गर्भवती का पहले से ज्यादा ख्याल रखने को कहा गया। सीडीपीओ ने उनके खाने की मात्रा को बढ़ाते हुए नियमित रूप से पौष्टिक आहार का सेवन भी जरूरी बताया ताकि बच्चा स्वस्थ पैदा हो सके।

कार्यक्रम में पोषण अभियान तथा पोषण माह का महत्व बताते हुए आँगनवाड़ी कार्यकर्ता सुमन चतुर्वेदी ने कहा कि अन्नप्राशन संस्कार बच्चे के छह माह का होने पर किया जाता है। छह माह तक शिशु को केवल मां का दूध ही दिया जाता है। छह माह पश्चात शिशु का विकास तेज गति से होता है और उसे अधिक पोषण की आवश्यकता होती है। इसलिए शिशु को ऊपरी आहार देना जरूरी होता है।

इस मौके पर विद्यालय में स्टाफ जितेंद्र कुमार, बीमा यादव, नागेंद्र सिंह , नीलेंद्र पांडे, अजय कुमार, राम बहादुर, बृजेंद्र सिंह , आशा उमा देवी और इंद्रावती ने प्रतिभाग किया।

सहजन में मिलते हैं पोषक तत्व

जिला कार्यक्रम अधिकारी शरद अवस्थी ने बताया कि पौधों के वृक्ष बनने से पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा तो मिलेगा ही साथ ही स्वस्थ समाज की परिकल्पना भी साकार होगी। सहजन के प्रयोग से गर्भवती का स्वास्थ्य बेहतर होने के साथ कुपोषित बच्चों का कुपोषण भी दूर होगा। यह पौधे आम लोगों के लिए भी लाभकारी साबित होंगे। सहजन की पत्तियों में कैल्शियम और विटामिन-सी के अलावा प्रोटीन, पोटेशियम, आयरन, मैगनीशियम और विटामिन-बी कॉम्पलैक्स भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।

Show More

Related Articles